Essay in Hindi on Dussehra

By | October 14, 2015

Dussehra is one of the most popular Hindu festivals that are celebrated with great pomp and show in India, Nepal, Sri Lanka, and Bangladesh with different names like Vijayadashami, Dussehra or Dasara or Dashain or Tenth day of Navratri or Durgotsav. On this pious occasion, I have got some amazing collection of Essay in Hindi on Dussehra that are especially for all the kids and preschoolers to know a bit more about Dussehra.

Essay in Hindi on Dussehra

“दशहरा को दुर्गा पूजा के नाम से भी जाना जाता है। यह त्योहार वर्षा ऋतु के अंत में संपूर्ण भारत वर्ष में मनाया जाता है। नवरात्र में मूर्ति पूजा में पश्चिम बंगाल का कोई सानी नहीं है जबकि गुजरात में खेला जाने वाला डांडिया बेजोड़ है। पूरे दस दिनों तक त्योहार की धूम रहती है।

लोग भक्ति में रमे रहते हैं। मां दुर्गा की विशेष आराधनाएं देखने को मिलती हैं।

Essay in Hindi on Dussehra

Essay in Hindi on Dussehra

दशमी के दिन त्योहार की समाप्ति होती है। इस दिन को विजयादशमी कहते हैं। बुराई पर अच्छाई के प्रतीक रावण का पुतला इस दिन समूचे देश में जलाया जाता है।

इस दिन भगवान राम ने राक्षस रावण का वध कर माता सीता को उसकी कैद से छुड़ाया था। और सारा समाज भयमुक्त हुआ था। रावण को मारने से पूर्व राम ने दुर्गा की आराधना की थी। मां दुर्गा ने उनकी पूजा से प्रसन्न होकर उन्हें विजय का वरदान दिया था।

रावण दहन आज भी बहुत धूमधाम से किया जाता है। इसके साथ ही आतिशबाजियां छोड़ी जाती हैं। दुर्गा की मूर्ति की स्थापना कर पूजा करने वाले भक्त मूर्ति-विसर्जन का कार्यक्रम भी गाजे-बाजे के साथ करते हैं।

Essay in Hindi on Dussehra

Essay in Hindi on Dussehra

भक्तगण दशहरे में मां दुर्गा की पूजा करते हैं। कुछ लोग व्रत एवं उपवास करते हैं। पूजा की समाप्ति पर पुरोहितों को दान-दक्षिणा देकर संतुष्ट किया जाता है। कई स्थानों पर मेले लगते हैं। रामलीला का आयोजन भी किया जाता है।

दशहरा अथवा विजयादशमी राम की विजय के रूप में मनाया जाए अथवा दुर्गा पूजा के रूप में, दोनों ही रूपों में यह शक्ति पूजा का पर्व है, शस्त्र पूजन की तिथि है। हर्ष, उल्लास तथा विजय का पर्व है। देश के कोने-कोने में यह विभिन्न रूपों से मनाया जाता है, बल्कि यह उतने ही जोश और उल्लास से दूसरे देशों में भी मनाया जाता जहां प्रवासी भारतीय रहते हैं।”

“दशहरा का त्यौहार भारत में बहुत ही महत्वपूर्ण त्यौहार हैं . इस त्यौहार को विजयदशमी के नाम से भी जाना जाता हैं. माँ दुर्गा की नौ दिनों तक पूजा करने के पश्चात दशमी के दिन यह त्यौहार मनाया जाता हैं. यह त्यौहार बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक माना जाता हैं. इस दिन रावण का पुतला पुर देश भर में जलाया जाता हैं.

Essay in Hindi on Dussehra

Essay in Hindi on Dussehra

इस दिन भगवान राम ने राक्षस रावण का वध कर माता सीता को उसकी कैद से छुड़ाया था और सारा समाज भयमुक्त हुआ था। रावण को मारने से पूर्व राम ने दुर्गा की आराधना की थी। मां दुर्गा ने उनकी पूजा से प्रसन्न होकर उन्हें विजय का वरदान दिया था। रावण दहन आज भी बहुत धूमधाम से किया जाता है। इसके साथ ही आतिशबाजियां छोड़ी जाती हैं। दुर्गा की मूर्ति की स्थापना कर पूजा करने वाले भक्त मूर्ति-विसर्जन का कार्यक्रम भी गाजे-बाजे के साथ करते हैं।

भक्तगण दशहरे में मां दुर्गा की पूजा करते हैं। कुछ लोग व्रत एवं उपवास करते हैं। पूजा की समाप्ति पर पुरोहितों को दान-दक्षिणा देकर संतुष्ट किया जाता है। कई स्थानों पर मेले लगते हैं। रामलीला का आयोजन भी किया जाता है।मैसूर का दशहरा देशभर में विख्‍यात है। मैसूर में दशहरे के समय पूरे शहर की गलियों को रोशनी से सज्जित किया जाता है और हाथियों का श्रृंगार कर पूरे शहर में एक भव्य जुलूस निकाला जाता है।

Essay in Hindi on Dussehra

Essay in Hindi on Dussehra

इस समय प्रसिद्ध मैसूर महल को दीपमालिकाओं से दुल्हन की तरह सजाया जाता है। इसके साथ शहर में लोग टार्च लाइट के संग नृत्य और संगीत की शोभा यात्रा का आनंद लेते हैं।दस दिन पहले ही रामलीला का मंचन आरंभ हो जाता है। इन दिनों रामकथा को नाटक रूप में दिखाया जाता है। दसवें दिन रावण, मेघनाद और कूंभकरण के पूतले का दहन किया जाता है। इस अवसर पर विभिन्न स्थानों पर बड़े-बड़े मेलों का आयोजन भी किया जाता है। विद्यालयों में बच्चों के लिए दस दिन का अवकाश भी घोषित कर दिया जाता है।

बच्चे बड़े उत्साह के साथ रावण दहन देखने जाते हैं और मेलों में बहुत आनंद उठाते हैं। भारत के सभी स्थानों में इसे अलग-अलग रूप में मनाया जाता है। कहीं यह दुर्गा विजय का प्रतीक स्वरूप मनाया जाता है, तो कहीं नवरात्रों के रूप में। बंगाल में दुर्गा पूजा का विशेष आयोजन किया जाता है। यह त्योहार हर्ष और उल्लास का प्रतीक है। इस दिन मनुष्य को अपने अंदर व्याप्त पाप, लोभ, मद, क्रोध, आलस्य, चोरी, अंहकार, काम, हिंसा, मोह आदि भावनाओं को समाप्त करने की प्रेरणा मिलती है। यह दिन हमें प्रेरणा देता है कि हमें अंहकार नहीं करना चाहिए क्योंकि अंहकार के मद में डूबा हुआ एक दिन अवश्य मुँह की खाता है। रावण बहुत बड़ा विद्वान और वीर व्यक्ति था परन्तु उसका अंहकार ही उसके विनाश कारण बना। यह त्योहार जीवन को हर्ष और उल्लास से भर देता है, साथ यह जीवन में कभी अंहकार न करने की प्रेरणा भी देता है।”

“विजयादशमी बुराई पर अच्छाई के प्रतीक है।

Essay in Hindi on Dussehra

Essay in Hindi on Dussehra

दशहरा के दिन भगवान श्री राम ने लंका के राजा रावण को मार कर माता सीता को उसकी कैद से आज़ाद कराया था।

दषेहरा के दिन रावण, कुम्भकर्ण तथा मेघनाथ के पुतले जलाये जाते हैं।

छात्रों से अनुरोध है की इस निबन्ध को कॉपी न करें। केवल इस निबन्ध को पढ कर अपने शब्दों में दोबारा लिखें।

कुल्लू तथा मसूरी का दसहरा काफी प्रचलित है।

Essay in Hindi on Dussehra

Essay in Hindi on Dussehra

दशहरा या नवरात्रि भारत, नेपाल और बांग्लादेश में मनाया जाता है।

दशहरा संस्कृत के शब्द दशा-हारा मतलब दस को हटाना यानि दस सिरों वाले राक्षस राजा रावण पर भगवान राम की जीत की चर्चा करते हुए लिया गया है।

विजयदशमी भी संस्कृत शब्द “विजया-दशमी” यानि दशमी तिथि पर जीत के अर्थ से लिया गया है।”

I know that you would have surely liked my collection of the Essay in Hindi on Dussehra and that you will now share these with all your friends and family without getting any bothered.